Sunday, September 10, 2017

rajkiy gun



 राजा, प्रधान मंत्रीं, राष्ट्रपति  बनने हेतु निम्नलिखित गुणों का होना आवश्यक है यदि किसी व्यक्ति में ये  गुण नहीं  हैं तो वो व्यक्ति इन गरिमायुक्त पदों पर आसीन  होने के  काबिल नही है ,

संस्कारी ,बुद्धिमान ,व्यवहारिक ,विवाहित,सन्तानप्रिय ,विचारवान ,चरित्रवान ,नीतिज्ञ ,मृदुभाषी ,सर्वप्रिय आचरण करने वाला ,दूरदर्शीं,सत्यभाषी  ,विपक्षियों को आदर देने वाला ,जनता के कष्टों का निवारण करने वाला ,जनता को अपनी संतान समझने वाला ,साधारण जीवन यापन करने वाला ,समय का सदुपयोग करने वाला ,कुपित ना होने वाला ,ये सब आचार्य चाणक्य कहते थे |  

3 tilnge



 हम ३ तिलंगों ने देश का इतिहास बदल दिया ना ,
मैं मोदी ,जेटली ,और शाह
जब तक हिंदुस्तान रहेगा
हम ३ तिलंगों का नाम रहेगा 

gujrat modle



तो मेरे प्यारे बहनो भाइयो अब तो आपने मेरा " गुजरात मॉडल "सम्पूर्ण भारत में भी देख लिया ,ये सब देखकर तो मुझे ५० साल तक प्रधानमंत्री बनाना आपका फर्ज है | 

Saturday, September 9, 2017


मोदी जी की प्रसिद्धि
वैसे मोदी जी का नाम उनके कारनामों के कारण  इतना प्रसिद्ध तो हो गया है की जब वो २०१९ के बाद  प्रधानमंत्री नहीं रहेंगे तो भी देश की जनता भविष्य में उनको ही पी एम्  समझती रहेगी ,

PAR UPDESH KUSHAL BAHUTERE


पर उपदेश कुशल बहुतेरे
================
देश में कोई ऐसा  व्यक्ति बताइये जिसने एक गरीब कन्या को कभी सम्मान नहीं दिया और उसके पिता को अपनी हठधर्मी के कारण मरने को भी मजबूर कर दिया हो और फिर शादी के बाद ही उसे तिल तिल  कर मरने हेतु समाज में छोड़ दिया हो और ये भी ना सोचा हो की वो गरीब कन्या अपनी पहाड़ जैसी जिंदगी बिना अपने पति के कैसे गुजारेगी ,जब की उसका कोई सहारा ना हो और उसके पास कोई धन दौलत भी ना हो और वो भी समंय में जब की परित्यक्ता को कोई मान सम्मान भी ना देता हो और उसे बड़ी ओछी नजरों से देखा जाता हो ,और तो और एक बहुत बड़े मुकाम पर पहुँचने के बाद भी उसे कभी घास ना डाली हो ,और जनता को अच्छी शिक्षा देता हो कि कन्याओं के लिए ये करो  वो करो  ,परन्तु अपने गिरहबान में कभी झांककर नहीं देखा हो,क्या ऐसा व्यक्ति समाज में सम्मान पाने का अधिकारी है ,शायद आप कहेंगे नहीं ,परन्तु आप और हम जैसे व्यक्ति ही जो सभ्य समाज के अंग है उसे मान सम्मान दे रहे हैं क्या ये न्यायोचित है |  

NOTBNDI SE BEDA GRK




नोटबंदी से बेड़ा  गर्क
=============
यदि नोटबंदी से देश की जनता और सरकार को फायदा होता तो आज देश की जनता मोदी मोदी चिल्लाती होती पर आज सभी भर्त्स्ना कर रहे हैं ,और मोदी जी मुंह लटकाये बैठे हैं क्योँ ?
सोचो गलती करने के बाद  कौन सर उठाकर चलता है | 

Thursday, September 7, 2017


राजा की आज्ञा प्रजा को देना होगा मान

यदि हम और आप अपने देश में रहना चाहते हैं तो हमको मोदी सरकार का समर्थन करना पडेगा यानी की जैसा वो कहें वैसा ही करना पडेगा , अंध भक्त बन्ना पडेगा जितना वो टैक्स वसूलना चाहे वो देना पडेगा ,यदि नहीं दोगे या आलोचना करोगे तो देश द्रोही का खिताब मिलेगा और देश छोड़कर जाना भी पड़  सकता है,इसे कहते हैं की" जैसा देश वैसा ही भेष "